Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

आई होली

मतवालों की चली रे टोली
फागुन की फिर आई होली
सेव ,चकली,गुझिया बनाई
पकवानों की सुगंध आई

बच्चे,बूढ़े सब रंग जाये
अजब गजब से वो दिखलायें
किशन राधा ने रास रचाया
होली का ये रंग सजाया

पिचकारी की रंगीन धारा
गुब्बारों ने अम्बार लगाया
रंग से गये घर और द्वारे
इक दूजे को देखे पुकारे

लाल,गुलाबी, पीला,नीला
रंग सूखा तो कोई गीला
अबीर, गुलाल और भभूति
नफरत,ईर्ष्या की दे आहूति

खाकर गुझिया भाँग पीलो
आओ मिलकर अब सब खेलो
खुशियाँ और मस्ती यूँ साजे
ढोल,मृदंग, नगाड़ा बाजे

पलाश पल्लव ने सुगंध घोली
नीले अम्बर के मुख पे रोली
शीत ऋतु की हुई विदाई
ग्रीष्म की आहट है आई

साजन सजनी की बात निराली
पिचकारी से वो रंग लगायें
सजनी खड़ी देख शरमाये
रंग बिरंगी न्यारी सी होली
भीगी अंगिया भीगी चोली

खिले टेसू लदी अमराई
मद्धम हवा से सुगंध आई
अमलतास के फूल अनोखे
केसरिया और पीले होते

प्रेम,स्नेह की ये हमजोली
झूमों,नाचो आई होली
नफरत,बैर को भुलाएँ
आओ सबको गले लगाएँ।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
संतुष्टि
संतुष्टि
Dr. Rajeev Jain
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
अर्पण है...
अर्पण है...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
एक आप ही तो नही इस जहां में खूबसूरत।
एक आप ही तो नही इस जहां में खूबसूरत।
Rj Anand Prajapati
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
"दलित"
Dr. Kishan tandon kranti
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
🙅उजला पक्ष🙅
🙅उजला पक्ष🙅
*प्रणय प्रभात*
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
*बहुत जरूरी बूढ़ेपन में, प्रियतम साथ तुम्हारा (गीत)*
Ravi Prakash
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
कर्बला में जां देके
कर्बला में जां देके
shabina. Naaz
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
VINOD CHAUHAN
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
Kalamkash
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
Loading...