Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

आइए मोड़ें समय की धार को

विधा― गीतिका
आधार छंद― अनंदवर्धक (मापनीयुक्त मात्रिक)
मापनी― गालगागा, गालगागा, गालगा.
(2122 2122 212)
सामान्त― आर
पदांत― को
********************************

आइए मोड़ें समय की धार को।
कम करें मिलकर धरा के भार को।।1।।

देश से दंगे स्वतः गायब मिलें।
यदि पचाना सीख लें हम हार को।।2।।

दंश दे जो देश को दहला रहा।
बेड़ियों में बाँध दें गद्दार को।।3।।

जो बढ़ाता है दिलों की दूरियाँ।
तोड़ दो उस मजहबी दीवार को।।4।।

बोल यदि बिगड़ा, सुधर पाता कहाँ।
कौन मीठा कर सका है क्षार को।।5।।

छाँव में जिस पेड़ के तुम पल रहे।
काटते हो क्यों उसी के डार को।।6।।

आइए मिलकर निभाएँ बंधुता।
तोड़ दें आतंकियों के तार को।।7।।

नाच नंगा की भरे बाजार में।
सिद्ध दोषी कर रहे भरतार को।।8।।

आप मौसेरे हुए हैं चोर के।
क्या कहें हम आपके किरदार को।।9।।

ढाल बन उस दुष्ट का क्यों हो खड़े।
जो हताहत कर रहा लाचार को।।10।।

1 Like · 364 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
....नया मोड़
....नया मोड़
Naushaba Suriya
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
" मुरादें पूरी "
DrLakshman Jha Parimal
2453.पूर्णिका
2453.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अगर न बने नये रिश्ते ,
अगर न बने नये रिश्ते ,
शेखर सिंह
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
कुश्ती दंगल
कुश्ती दंगल
मनोज कर्ण
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
अनमोल मोती
अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
पंछियों का कलरव सुनाई ना देगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
जिनके अंदर जानवर पलता हो, उन्हें अलग से जानवर पालने की क्या
*प्रणय प्रभात*
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
Phool gufran
तुलसी युग 'मानस' बना,
तुलसी युग 'मानस' बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"साहस का पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...