Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2020 · 1 min read

आंसू

विधा-मुक्तक

खुशी में भी आंसू निकल जाते हैं
दुःख में तो और भी पिघल जाते हैं
जी भर के रो लिया करो कभी- कभी
रोने से मन मौसम बदल जाते हैं।

आंसू गम में बेवफा हो जाते हैं
आंखों के लिए सफा हो जाते हैं
मुश्किल लम्हें झेलते-झेलते ये तो
हमेशा के लिए खफा हो जाते हैं।

औलाद जब पहली बार मां कहे
आंखों में प्रेम की आंसू छलके
लगा गले कलेजे के टुकड़े को
पीठ पर दूं थपकी हल्के-हल्के।

नूरफातिमा खातून “नूरी”
जिला-कुशीनगर

Language: Hindi
1 Like · 325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
ख़ियाबां मेरा सारा तुमने
Atul "Krishn"
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Seema gupta,Alwar
फेसबूक में  लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
फेसबूक में लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
DrLakshman Jha Parimal
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊आज का ज्ञान😊
😊आज का ज्ञान😊
*Author प्रणय प्रभात*
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आनंद
आनंद
RAKESH RAKESH
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
*पाना दुर्लभ है सदा, सहस्त्रार का चक्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
हमारे भीतर का बच्चा
हमारे भीतर का बच्चा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-395💐
💐प्रेम कौतुक-395💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
बाधा को 'चल हट' कहता है,
बाधा को 'चल हट' कहता है,
Satish Srijan
आजादी
आजादी
नूरफातिमा खातून नूरी
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...