Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2022 · 1 min read

आंखों पर शायरी

आज भी ढूंढती नज़र उसको ।
मेरी आंखों का ख़्वाब था जैसे ।।

आज भी पास हो मेरे दिल के ।
आज भी भीगती ये आँखे हैं ।।

ये भी ख्वाबों की एक ज़रूरत है।
हम तेरा अक्स भर ले आँखों में ।।

मेरी हिस्से भी नींदे दे मुझको ।
अभी आखों के ख़्वाब बाक़ी ।।

बे’शुमार दिल में तेरा प्यार रक्खा है ।
छुपा के आंखो में तेरा इंतज़ार रखा है।।

उसी को तरसती हैं नींदे हमारी।
जो ख्वाब आंखों को भाता नहीं है ।।

रिश्ता मेरा जिससे कभी टूटा ही नहीं है ।
तुम भी मेरी आंखों में आंसू की तरह हो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
नश्वर तन को मानता,
नश्वर तन को मानता,
sushil sarna
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे ( मजदूर दिवस )
दोहे ( मजदूर दिवस )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
जिसके भीतर जो होगा
जिसके भीतर जो होगा
ruby kumari
दूर क्षितिज के पार
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
त्रिशरण गीत
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
बातों का तो मत पूछो
बातों का तो मत पूछो
Rashmi Ranjan
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*****जीवन रंग*****
*****जीवन रंग*****
Kavita Chouhan
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
हम भी जिंदगी भर उम्मीदों के साए में चलें,
manjula chauhan
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
"एडिटर्स च्वाइस"
*Author प्रणय प्रभात*
कर
कर
Neelam Sharma
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
Loading...