Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2019 · 1 min read

आंखें मुंदे

आंखें मुंदे
नदी किनारे
नाव चले
पतवार हिले
हवाओं की सनसनाहट
पेड़ो की हलचल
खामोशी से
हौले-हौले
गीत सुनाये
प्रीत बताये
डालों की पत्तियां
पलकों को
छुके जगाये
शरीर जगे
सब बेजान मिले
आंखें मुंदे
नदी किनारे ।
~रश्मि

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यहां  ला  के हम भी , मिलाए गए हैं ,
यहां ला के हम भी , मिलाए गए हैं ,
Neelofar Khan
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
Desert fellow Rakesh
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
Ravi Prakash
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#चलते_चलते
#चलते_चलते
*प्रणय प्रभात*
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
Virendra kumar
Loading...