Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2016 · 1 min read

आँसू

दृगों से छलकता
नीर ही परिचय नहीं
है,तुम्हारा ।
त्रासदी के क्षणों में
निकले जल-बिंदु
भी नहीं बता सकते,
तुम्हारा रूप व सौंदर्य ।
प्रसन्नता की
स्वर-लहरी में
तुम निकलते तो हो
लेकिन पूरे नहीं।
इसलिए-यदि किताब
ही कहूँ तुम्हें तो
तुम तो वह किताब हो,
जिसको पढ़कर
समझा जा सकता है,
पूरा जीवन ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।

Language: Hindi
1 Like · 7 Comments · 1452 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
तरुण सिंह पवार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
अटल
अटल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
Anis Shah
आलाप
आलाप
Punam Pande
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
डी. के. निवातिया
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
■ धत्तेरे की...
■ धत्तेरे की...
*Author प्रणय प्रभात*
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
नौजवानी फूल पर हर छा रही है (मुक्तक)
नौजवानी फूल पर हर छा रही है (मुक्तक)
Ravi Prakash
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
जमातों में पढ़ों कलमा,
जमातों में पढ़ों कलमा,
Satish Srijan
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
💐 Prodigi Love-47💐
💐 Prodigi Love-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...