Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2021 · 1 min read

आँगन में एक पेड़ चाँदनी….!

आँगन में एक पेड़ चाँदनी….!
_________________________________________________

आँगन में एक पेड़ चाँदनी, सात सितारे टंके हुए
सिंदूरी शामों की पलकें, रातों को यूँ ढ़ंँके हुए
केसर रंगे हुए शीशों में, मरमरी यूं बिखर रही
कस्तूरी सांँसो की खुशबू, बहार चंपई झूम रही
महक उठी आंँगन के द्वारे, चंदा उसकी बाट निहारे

आँगन में एक पेड़ चाँदनी, सात सितारे टंके हुए
सिंदूरी शामों की पलकें, रातों को यूँ ढ़ंँके हुए

अधखुली कजरारी पलकें, शबनम फूल भरे हुए
अंग है उसके धवल बरन से, शूल यूँ कुछ उगे हुए
मिठास चेहरा पलछिन बरखा, प्रेम–रस यूं घुमड़ रहे
मादक टहनी गात–पात पर, बसंती आँचल उलझ रहे
पुष्पप्रिया की गंध बांँसुरी, मनचली सी हवा चले

आँगन में एक पेड़ चाँदनी, सात सितारे टंके हुए
सिंदूरी शामों की पलकें, रातों को यूँ ढ़ंँके हुए

रसवंती रातों की फिजाएं, ऊँघती जिसमें सारी दिशाएं
रतनारे सपनों में डूबे, कुनमुने से चाँद सितारे
ओस में भीगी चंचल कलिका, उनींदी पलकों की मलिका
भादों सी बोझिल पलकों में, रजनी भी यूँ डूब गई
सागर इंद्रधनुष यादों में, मन की हथेली डूब गई

आँगन में एक पेड़ चाँदनी, सात सितारे टंके हुए
सिंदूरी शामों की पलकें, रातों को यूँ ढ़ंँके हुए

–कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह

–यह मेरी स्वरचित रचना है।
(सर्वाधिकार सुरक्षित)

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नव भारत निर्माण करो
नव भारत निर्माण करो
Anamika Tiwari 'annpurna '
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी की राह में हर कोई,
जिंदगी की राह में हर कोई,
Yogendra Chaturwedi
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
■ कडवी बात, हुनर के साथ।
■ कडवी बात, हुनर के साथ।
*प्रणय प्रभात*
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
15🌸बस तू 🌸
15🌸बस तू 🌸
Mahima shukla
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
R. H. SRIDEVI
जवाब दो हम सवाल देंगे।
जवाब दो हम सवाल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
*पानी सबको चाहिए, पक्षी पशु इंसान (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, पक्षी पशु इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अभी ना करो कोई बात मुहब्बत की
अभी ना करो कोई बात मुहब्बत की
shabina. Naaz
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
"औषधि"
Dr. Kishan tandon kranti
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
दामन भी
दामन भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...