Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी

आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी
साँसे ही मेरी अब साँसों को चुभने लगी

जब से रुत-ए-बाहर तेरी यादों की आई है
जर्द आँसू टूट के आँखें अब उजड़ने लगी

न जाने कौन है मेरे भीतर जो तड़पता है
आहे जिसकी अब कागज पे बिखरने लगी

दर्द जब से सीने में करवटे बदल रहा है
दिल की उदासी अब चहरे पे दिखने लगी

लम्हों को गुजरे हुए कई कई साल हो गये
मेरी धड़कने अब दिन आखरी गिनने लगी

न जाने कौन सा मौसम है मेरी आँखों में
पलकों के निचे जो इतनी काई रहने लगी

ख़ुद ही ख़ुद को लिख रहा हूँ ख़त जब से
तंग हालत पे तहरीरें-पूरव बिलखने लगी

1 Like · 1 Comment · 376 Views
You may also like:
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*एक शेर*
Ravi Prakash
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
#है_तिरोहित_भोर_आखिर_और_कितनी_दूर_जाना??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
✍️रात साजिशों में है✍️
'अशांत' शेखर
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
देव भूमि - हिमान्चल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चालीसा
Anurag pandey
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
गधा
Buddha Prakash
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उम्मीद है कि वो मुझे .....।
J_Kay Chhonkar
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
प्रेम
Kanchan Khanna
वो नयनों के दीपक
VINOD KUMAR CHAUHAN
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
बापू को क्यों मारा..
पंकज कुमार कर्ण
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
हमें अपनी
Dr fauzia Naseem shad
ऐ वतन!
Anamika Singh
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
Loading...