Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,

आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
वो भी मुझसा कोई फरियादी है।

@नील पदम्

5 Likes · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
Ranjeet kumar patre
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*इक क़ता*,,
*इक क़ता*,,
Neelofar Khan
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
दुनिया में कुछ भी बदलने के लिए हमें Magic की जरूरत नहीं है,
Sunil Maheshwari
श्रृष्टि का आधार!
श्रृष्टि का आधार!
कविता झा ‘गीत’
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*प्रणय प्रभात*
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता
पिता
sushil sarna
समय
समय
नूरफातिमा खातून नूरी
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
हर वर्ष जलाते हो हर वर्ष वो बचता है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...