Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है

आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है
जो रडकते है उनको बहाना कितना मुश्किल है !!

साँसों पे लिख लिया तुझको मैंने आयत की तरह
तक़दीर का ये लिखा मिटाना कितना मुश्किल है !!

न ख़ुशी महसूस होती न कोई गम महसूस होता
भीतर चोट हो तो मुस्कुराना कितना मुश्किल है !!

बनते बनते बिच में ढह जाती है ख्वाबो की हवेली
आँखों की अब नमी सुखाना कितना मुश्किल है !!

बदन पे निकल आये काँटे देख किस मौसम मे
हर ज़ख्म हरा है ये दिखाना कितना मुश्किल है !!

दिल के भीतर ये सब टुटा फूटा सब पुराना है
घर आये मेहमां को ठहराना कितना मुश्किल है !!

ख्वाईश की तितलियों के पर लहू-लुहान से है
बाहरों का उजाड़ा बसाना कितना मुश्किल है !!

कागज़ के कलेजे पे लिखता है पुरव जिगरे-लहू से
हाल-ए-दिल गजल में सुनाना कितना मुश्किल है !!

232 Views
You may also like:
#है_तिरोहित_भोर_आखिर_और_कितनी_दूर_जाना??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक नायाब मौका
Aditya Prakash
ये चुनी हुई चुप्पियां
Shekhar Chandra Mitra
भोलाराम का भोलापन
विनोद सिल्ला
कहता है ये दिल मेरा,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*पदयात्रा का मतलब (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
■ कल्पनाओं से परे एक अद्भुत रहस्य
*Author प्रणय प्रभात*
सामन्ती संस्कार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
मदार चौक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कविता (घनाक्षरी)
Jitendra Kumar Noor
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
💐 क्या-क्या असर हुआ उनकी ज़ुस्तजू का💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
उसके लहजे में
Dr fauzia Naseem shad
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
Shilpi Singh
मंगलवत्थू छंद (रोली छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
शुभ धनतेरस
Dr Archana Gupta
खादी पहने ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
दौर।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
छठ महापर्व
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...