Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

अहंकार

अहंकार
————-

अहम का विकार जब जब किसी में आ गया।
न चाहते हुए भी उसको अहंकारी कहा गया।
अहम के सीमित मात्र को
स्वाभिमानी गुना गया।
हुआ जो हद से पार यें गुन
उसे अहंकारी कहा गया।
मैं शब्द को देखो तो किसी एक अर्थ में ठीक है।
वरना यह शब्द भी अहंकार का ही प्रतीक है
अहंकारएक ऐसी है ज्वाला।
जिसका व्यक्ति बने स्वयं निवाला।
इसका पीड़ित भयें जो कोई।
सर्वश्रेष्ठ समझे खुद को ही।
अहं ब्रह्मास्मि के भाव तले।
हर जगह मैं और अहंकार पले
चार वेद छ: शास्त्र का ज्ञाता।
महात्मा रावण थे मेरे भ्राता।
अहंकार के प्रभाव से भाई।
उन्होने अपनी छवि गवाई।

सुधाभारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Language: Hindi
290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
वो लम्हें जो हर पल में, तुम्हें मुझसे चुराते हैं।
Manisha Manjari
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
पूर्वार्थ
हँसकर गुजारी
हँसकर गुजारी
Bodhisatva kastooriya
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
रंग आख़िर किसलिए
रंग आख़िर किसलिए
*Author प्रणय प्रभात*
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-537💐
💐प्रेम कौतुक-537💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
सच्ची सहेली - कहानी
सच्ची सहेली - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
दुआ के हाथ
दुआ के हाथ
Shekhar Chandra Mitra
Loading...