Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Apr 2023 · 2 min read

*अहंकार *

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

*अहंकार *

मानवता का आदर्श मर्यादा से अभिसिंचित होता है । मनुष्य का मनुष्य के प्रति व्यवहार मर्यादा से ही आबद्ध रहता है, शरीर में जैसे त्वचा का आवरण है, न भाई , उसी प्रकार मनुष्यता में मर्यादा का आवरण प्रतिबद्ध रह्ता है यही महत्व पूर्ण है । यही जीवन की सार्थकता के लिए इसकी रक्षा के लिए प्रत्येक मानव का परम कर्तव्य है । श्री की स्थापना अहंकार के साथ असम्भव है | और प्रयास क्या रह्ता है मनुष्य का, सभी को अपने संरक्षण में रखें । अपने अंकुश में रखे | ये तो बडी अजीब स्थिति है खुद का खुद पर नही नियन्त्रण मन का पन्छी सोच रहा है कैसे कर लू जग संतर्पण |
अविकारी होना अस्मभव है विकारों के साथ जीना एक दम सहज है , गुरु तुम्हारी इसी स्थिति को इस कमजोरी को भली भान्ति समझता है रोज रोज एक ही मन्त्र देगा – अविकारी बनो , अविकारी बनने क सरल उपाए समझाता है , सब कुछ छोड उसकी शरण में आ जाओं अर्थात अपने पर अपना नियन्त्रण छोड गुरु के अधिकार में रहो , तुम्हारी स्थिति , शून्य और गुरु की – सर्वागीण – ऐसा कैसे सम्भव है इश्वर के मनुष्य को स्वतंत्र बनाया है – किसलिए ? क्या यही काम रह गया | बुद्धि दी – क्या इसी लिए ज्योति दी क्या इसीलिए रसना जिव्हा कर्ण नासिका किसलिए – ? इसी लिए के आप किसी के गुलाम बन जाओ ? न रे मुन्ना न – किसी से ज्ञान लेना उसका कृतग्य होना महत्वपूर्ण है लेकिन कृतज्ञता के मध्य गुलामी न रे मुन्ना ना | ये स्वीकार कर लेना अतिशयोक्ति होगी , करते हैं प्रतिदिन असंख्य | फेंसला सबका स्वयं का होता है | यही है सबसे महत्वपूर्ण प्रसंग |
गुरु कह्ता है – निर्विकार अवस्था अच्छी है – बिल्कुल सही मानने वाली बात है – अब आप निर्विकारी होने के लिए प्रयास कर रहे , नही हो रहा , होगा भी नही , फिर क्या गुरु गलत है , अरे नही मुन्ना गुरु कभी गलत हो नही सकता | फिर क्या मैं पापी हुँ , ये भी गलत , फिर क्या ये मेरे बस से बाहर है , मैं क्या कभी निर्विकारी नहीं हो पाऊँगा | ये भी गलत – फिर सही क्या है | देखो हम जिस चीज के पीछे भागते हैं वो चीज सदा से हम से उत्ती दूर भागती , लेकिन शान्त स्वभाव से उसका स्मरण करते करते एक दिन मन अभायसी हो जाता है जिस की इच्छा होती उसका | यही स्थिति है उस भाव , वस्तु , को काबु करने का यही सही समय है उसको फटाक से प्राप्त करने का |
अहंकार के बिना मनुष्य का कोई आकार नही हो सकता लेकिन उसका भाव उसके भाव को अपनी अभिव्यक्ति से आगे रख कर चलना सीख जाना सही मानवीय उपलब्धि है |
ये भाव ये गुण ये मन्त्र जिसने समझ लिया वही अविकारी , निरंकारी , निर्विकल्पा हो जाता उसी क्षण |

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
चिंता अस्थाई है
चिंता अस्थाई है
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
जो उसने दर्द झेला जानता है।
जो उसने दर्द झेला जानता है।
सत्य कुमार प्रेमी
🙅राहत की बात🙅
🙅राहत की बात🙅
*प्रणय प्रभात*
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
*समय की रेत ने पद-चिन्ह, कब किसके टिकाए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"खैरात"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
कुछ परछाईयाँ चेहरों से, ज़्यादा डरावनी होती हैं।
Manisha Manjari
पंख पतंगे के मिले,
पंख पतंगे के मिले,
sushil sarna
सेवा
सेवा
ओंकार मिश्र
3251.*पूर्णिका*
3251.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
Loading...