Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 2 min read

अस्फुट सजलता

मैं बहुत उलझन में थी..रोज-रोज की मारपीट मेरे संस्कारों को बदल रही थी.. मैं कल की घटना याद करने लगी.. इन्होंने मेरी पूरी डायरी गैस पर रख दी..एक एक पन्ना राख हो गया..
“लो साहित्यकारा जी.. अपने सपनों के धुंए को कलेजे में भर लो और घर के काम में मन लगाओ, दिन भर पेज काला करती हो, अब बंद करो ये सिलसिला। औरतें चौके में ही अच्छी लगती हैं”
कहकर इन्होंने भड़ाक से दरवाजा बंद किया और बाहर निकल गये।
मैं वितृष्णा से भरी अपनी सास के कमरे में गई और उनकी गोद में सर रख कर फूट-फूट कर रो पड़ी थी। मेरी सासू माॅं से मेरे बहुत मीठे और भावपूर्ण संबंध थे, उस पल उनका मेरे सर पर हाथ रखना मुझे बहुत अच्छा लगा..
आज सुबह मैं धूप में अपने हाथों को घुमा रही थी.. अपनी रेखाओं को घूर रही थी..चेहरे पर कल का तनाव छाया था.. अचानक अम्मा की आवाज सुनाई पड़ी
“बेटा..”अम्मा बगल में खड़ी थी..
मैंने झट से ऑंसू पोंछे और रसोई की तरफ जाने लगी..वो मेरे सामने आईं और
मेरे हाथ में एक डायरी रख कर बोलीं..
“ये वो सब रचनाऍं हैं जो तुम मुझे पढ़ने को दे जाती थी..” अम्मा ने बहुत प्यार से बताया।
“अम्मा! मैंने अचरज भरी नजर से उन्हें देखा..
“हां बेटी! तुम इतना अच्छा लिखती थी कि मैं अपने पास लिख कर रख लेती थी और बाद में पढ़ा करती थी”
“अरे!” मैंने भावविह्वल होकर डायरी अपने सीने से लगा ली।
“और हाॅं.. मारपीट के आरोप में कुणाल को जेल हो गई है, रात में मैंने आनलाइन शिकायत दर्ज करवाई थी, सवेरे तुम जब मंदिर गई थीं तब पुलिस आई थी और उसको पकड़ कर ले गई है..अब तुम निश्चिंत होकर रहो बेटा, उसको कुछ दिनों की सजा मिलेगी, शायद उससे वो कुछ बदल जाए..”कह कर उन्होंने मेरे कंधे पर अपना हाथ रखा..
“अरे अम्मा!” मैं चरण स्पर्श करने झुकी, पर उन्होंने मुझे गले से लगा लिया।

स्वरचित
रश्मि संजय श्रीवास्तव
रश्मि लहर
लखनऊ, उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
*अध्यापिका
*अध्यापिका
Naushaba Suriya
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
चंदा मामा से मिलने गए ,
चंदा मामा से मिलने गए ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सौंदर्य मां वसुधा की
सौंदर्य मां वसुधा की
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"हासिल"
Dr. Kishan tandon kranti
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
यही जिंदगी
यही जिंदगी
Neeraj Agarwal
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
असली परवाह
असली परवाह
*Author प्रणय प्रभात*
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...