Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

*असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)*

असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)
————————————–
1)
असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा
नदारद नेह से है जो, लगा किसको भला प्यारा
2)
न किंचित चैन से बैठा, उफनता ही रहा प्रतिपल
बहुत बेचैन है सागर, सदा से ऐंठ का मारा
3)
किनारे बैठकर भी कब, बुझी है प्यास प्यासे की
बहुत छोटी नदी के हाथ, सागर इसलिए हारा
4)
बड़ों की है यही फितरत, कि सबको लील जाते हैं
बहुत मीठी नदी थी जो, निगल सागर गया सारा
5)
जो सागर पैर छू भी ले, डर कर ही जरा मिलिए
डूबाती है जहाजों तक को, इसकी क्रूरतम धारा
————————————–
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 999 7615451

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/164.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
आखिर वो माँ थी
आखिर वो माँ थी
Dr. Kishan tandon kranti
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
*सब से महॅंगा इस समय, पुस्तक का छपवाना हुआ (मुक्तक)*
*सब से महॅंगा इस समय, पुस्तक का छपवाना हुआ (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भविष्य..
भविष्य..
Dr. Mulla Adam Ali
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"" *बसंत बहार* ""
सुनीलानंद महंत
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
Shweta Soni
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
होगी तुमको बहुत मुश्किल
होगी तुमको बहुत मुश्किल
gurudeenverma198
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बिखरना
बिखरना
Dr.sima
Loading...