Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।

किसी ने क्या खूब कहा असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते।
“कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ।
खबरों के छपने का आधार भी हूँ।।
मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ।
इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।।
दिवाना ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ।
झूठे पर प्रहार, सच्चे का यार भी हूं।।”
(पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)
संकलन: राकेश देवडे़ बिरसावादी (सामाजिक कार्यकर्ता )

Language: Hindi
216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मचले छूने को आकाश
मचले छूने को आकाश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
दूर रहकर तो मैं भी किसी का हो जाऊं
डॉ. दीपक मेवाती
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
खतरनाक बाहर से ज्यादा भीतर के गद्दार हैं (गीत)
खतरनाक बाहर से ज्यादा भीतर के गद्दार हैं (गीत)
Ravi Prakash
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
"तुम ही"
Dr. Kishan tandon kranti
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
Loading...