Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 2 min read

असमान शिक्षा केंद्र

विषय: विभिन्न प्रकार के शिक्षा केंद्र व उनके प्रभाव, मित्रो, हमलोग अक्सर शिक्षा क्षेत्र में सरकारी व निजी शिक्षा केंद्रों के विषय में चर्चा करते रहते है और अक्सर इस निष्कर्ष पर पहुंच जाते है कि यह व्यस्था सामाजिक व मानसिक विभाजन करती है और हम निजी केंद्रों को दोषी ठहराते है शिक्षा के अवमूल्यन व बा जारिकरण का। हम ये भी मान लेते है कि सरकारी शिक्षा केंद्रो में पढ़ने वाले छात्र, जीवन में अपने आप को कमतर समझते हैं। मै आप सभी को यही कुछ पांच हजार वर्ष पीछे ले जाना चाहता हूं, जिसकी हमलोग द्वापर या महाभारत काल या कृष्ण का काल भी का सकते है। जैसा कि हम जानते है शिक्षा केंद्रो का कार्य छात्रों को बौद्धिक , शारीरिक व सामाजिक रूप में जीवंत करना है। उस समय की व्यस्था में दो गुरुकुल थे, एक आश्रम गुरु संदीपनी का तथा दूसरा आश्रम गुरु द्रोणाचार्य का। संदीपनी आश्रम दान व भिक्षा से चलता था, वह सभी के लिए खुला था, कृष्ण व सुदामा दोनों की शिक्षा दीक्षा यही संपन्न हुई। दोनों की जीवन शैली बाद में अलग अलग हो गई, आप सभी को ज्ञात है। एक त्रिलोकीनाथ तो दूसरे के पास कुछ नहीं। परन्तु यह केवल उस शिक्षा का प्रभाव था कि दोनों त्याग व प्रेम की पराकाष्ठा बने, जीवन में वैभव व अभाव दोनों सहपाठियों को कभी विचलित नहीं किया, यानी धैर्य की परीसिमा। हम कृष्ण सुदामा को आज भी भाव विभोर हो जाते हैं, ये वह अनुदान वाली शिक्षा का सार है। दूसरी तरफ द्रोणाचार्य द्वारा प्रायोजित शिक्षा जिसका सारा ख़र्च उस समय का सबसे प्रभावशाली राजवंश, जिसको हम भरत वंश कहते है, करता था। वहा वैभव व तकनीक की कोई कमी नहीं थी और जिसकी देख रेख गंगापुत्र भीष्म खुद करते थे। एक से एक अर्जुन जैसे धनुर्धर, भीम व दुर्योधन जैसे गदाधारी इसी शिक्षण संस्थान से निकले। परन्तु ये सम्पूर्ण शिक्षा साबित ना हो सकी, क्योंकि यहां शिक्षा प्रतिद्वंदिता कि थी, आत्मबोध की थी, प्रदर्शन की थी । परिणास्वरूप सहपाठियों में बैमनुष्यता का भाव इस तरह होता है कि महाभारत में इसी शिक्षण संस्थान से निकले गुरुभाई एक दूसरे के रक्त के प्यासे होकर एक दूसरे का वध करते है और तो और सबसे प्रिय शिष्य के हाथों ही गुरु का वध कर दिया जाता है। गुरु व उस संस्थान को उसके किए की सजा मिली, क्योंकि वे सत्य, त्याग, समर्पण व मानवीय मूल्यों की शिक्षा ना देने के दोषी थे। और मजे कि बात उस युद्ध का निर्णय वहीं संदीपनी शिष्य कृष्ण करता है। मेरा अपना मानना है कि कमोवेश स्थितियां अभी भी वैसी ही है, आप भी जरा गौर करिएगा । एक प्रयास🙏🏻🇮🇳

Language: Hindi
1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
💐अज्ञात के प्रति-34💐
💐अज्ञात के प्रति-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का झटकना
वो सपने सलोने, वो हंसी के फुहारे। वो गेसुओं का झटकना
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*समस्या हो भले कैसी, सुलझ हर एक जाएगी (मुक्तक)*
*समस्या हो भले कैसी, सुलझ हर एक जाएगी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
--जो फेमस होता है, वो रूखसत हो जाता है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
खूबसूरती
खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
भूख से वहां इंसा मर रहा है।
भूख से वहां इंसा मर रहा है।
Taj Mohammad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 * गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...