Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

असत्य पर सत्य की जीत

हर तरफ देखिए
असत्य पर सत्य की जीत का जश्न है
हर कोई राम की भक्ति में मग्न है
ये क्या हर साल रावण को मारा जाता है
फिर कैसे ये हर बार जिंदा हो जाता है
हर साल राम की
विजय पताका लहराते हैं
और रावण का दहन कर जाते हैं
पर फिर से नए रावण जन्म ले आते हैं
अब राम कोई नहीं बनना चाहता है
क्योंकि हर कोई यह जानता है
राम तो हमेशा ही बस कष्ट उठाता है
अब सभी को रावण का किरदार भाता है
इसलिए हर कोई सीता चुराना चाहता है
पर अब रावण सा धैर्य भी कहाँ है
हर कोई इच्छा के विरूद्ध जाता है
और पल भर में हवश मिटाना चाहता है
अब राम-राज तो नजर आता है
परंतु जिधर देखो हर तरफ
राम नहीं रावण ही नजर आता है

स्वरचित
( विनोद चौहान )

Language: Hindi
4 Likes · 683 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
दीवानों की चाल है
दीवानों की चाल है
Pratibha Pandey
दान
दान
Mamta Rani
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
3182.*पूर्णिका*
3182.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"शब्दों का सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी (ग्राम) पीड़ा
मेरी (ग्राम) पीड़ा
Er.Navaneet R Shandily
परमात्मा
परमात्मा
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Sonam Puneet Dubey
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
Ravi Prakash
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
महादेव
महादेव
C.K. Soni
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...