Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

अविरल आंसू प्रीत के

तुझे याद करूँ कितना ये बात कहूँ कैसे
फरियाद करूँ कितना बिन तेरे रहूँ कैसे ।
जब चाँद स्वयं मेरा मुझसे खुद रूठ गया
पूछें आँखों से आँसू ‘अविरल’ मैं बहूँ कैसे ।1।

ये आँसू नहीं है प्रिये! जज्बात ये गिरते हैं
शिकवा ना गिला कोई पर सवालात ये गिरते हैं ।
गर प्रीत जो की जग में तो निभाने का भी हुनर रखो
वफा पे घायल ‘अविरल’ना तेरी औकात पे मरते हैं ।2।

आशीष अविरल चतुर्वेदी
प्रयागराज

(सर्वाधिकार सुरक्षित लेखकाधीन)

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
सही नहीं है /
सही नहीं है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
🌿 Brain thinking ⚘️
🌿 Brain thinking ⚘️
Ms.Ankit Halke jha
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Kahi pass akar ,ek dusre ko hmesha ke liye jan kar, hum dono
Sakshi Tripathi
3162.*पूर्णिका*
3162.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
डोरी बाँधे  प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
डोरी बाँधे प्रीति की, मन में भर विश्वास ।
Mahendra Narayan
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
No battles
No battles
Dhriti Mishra
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
#काहे_ई_बिदाई_होला_बाबूजी_के_घर_से?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
*दूर देश से आती राखी (हिंदी गजल)*
*दूर देश से आती राखी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
■ ज्वलंत सवाल
■ ज्वलंत सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
Loading...