Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

अवावील की तरह

अवावील की तरह

डरती हैं तमन्नाएँ अबाबील की तरह।
हालात झपटते हैं किसी चील की तरह ॥

हो रात अमावस की अंधेरा हो घनेरा ।
तो याद तुम्हारी है किसी एक कंडील की तरह।।

कंकड़ की तरह छेड़ता हूँ मैं तुझे गिरकर ।
ख़ामोश तू रहती है किसी झील की तरह ।।

महफ़िल में सुना देते हो अहसान तुम करके ।
सीने में खटकता है किसी कील की तरह ॥

फिरता हूँ एक दरख्वास्त सा पीछे मैं तुम्हारे ।
मिलते नहीं हो साहबों और सील की तरह ॥

Language: Hindi
1 Like · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
संघर्षों की
संघर्षों की
Vaishaligoel
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी उलझन,
कभी उलझन,
हिमांशु Kulshrestha
है शामिल
है शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"एक हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी ही दोस्तों
हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
"बैठे हैं महफ़िल में इसी आस में वो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
We Mature With
We Mature With
पूर्वार्थ
..
..
*प्रणय प्रभात*
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
अक्सर चाहतें दूर हो जाती है,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...