Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

अवसान

अशांत हृदय, दिग्भ्रामक आयाम,
उद्विग्न मन,
प्राकृतिक आपदा, युद्ध की विभीषिका ,
मानवता का हनन् ,
निरीह उत्पीड़ित संघर्षरत् मानव,
छल -कपट एवं छद्म का वर्चस्व,
लुप्तप्रायः धैर्य एवं साहस,
संस्कार -आदर्श एवं सदाचार,
विनाशकारी प्रवृत्ति एवं प्रकृति ,
स्तरहीन पशुवत् व्यवहार ,
चारित्रिक हनन् , अनाचार,
धर्माधंता का प्रचार एवं प्रसार,
निरंकुश शासन व्यवस्था ,
नीति एवं न्याय की दुर्दशा ,
देशद्रोही एवं राष्ट्रविखंडनकारी शक्तियों की उत्पति ,
किंकर्तव्यविमूढ़ विपरीत परिस्थिति ,
क्या यह इस सृष्टि में प्रलय का
पूर्वाभास है ?
या इस कलियुग में जीवन के अवसान का
प्रथम भाग है ?

Language: Hindi
448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
■ मन गई राखी, लग गया चूना...😢
*प्रणय प्रभात*
अधूरा प्रेम
अधूरा प्रेम
Mangilal 713
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
Neelam Sharma
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
दिलकश
दिलकश
Vandna Thakur
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
आज पशु- पक्षी कीमती
आज पशु- पक्षी कीमती
Meera Thakur
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
Loading...