Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2024 · 1 min read

अवसर

अवसर, अवसर, अवसर
रहता सदा है, सिर को ढककर।

सदा ही ये चुप है रहता,
कभी किसी से कुछ न कहता

आता है ये सबके पास,
लगाकर अपने पाने की आस।

छोड़ेंगे हम इसको अगर,
भाग जायेगा यह अवसर।।

अवसर की है बात निराली
मुख पर रखता जुल्फे काली ।

दिखता नहीं इसका मुख
छुट जायेंं तो देता दुख।

पाने को इसे ना छुटे कसर।
अवसर है यह, है अवसर।।

है यह सदा अजर अमर
पास है इसके कई पर ।

छुट जाए उड़ जाए फुरर्र
बना दे सब खण्डहर।

“सन्जू” की सुनो ये खबर
इस पर रखो एक पैनी नज़र।

छुटे न जो यह अवसर
अवसर, अवसर है यह अवसर।।

संजय कुमार “सन्जू”

1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
फकीर का बावरा मन
फकीर का बावरा मन
Dr. Upasana Pandey
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
हर पल तलाशती रहती है नज़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*पश्चाताप*
*पश्चाताप*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
Rj Anand Prajapati
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
गंगा मैया
गंगा मैया
Kumud Srivastava
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
जिंदगी तेरे नाम हो जाए
Surinder blackpen
■ वक़्त का हर सबक़ एक सौगात।👍
■ वक़्त का हर सबक़ एक सौगात।👍
*Author प्रणय प्रभात*
Even if you stand
Even if you stand
Dhriti Mishra
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
2937.*पूर्णिका*
2937.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
Kanchan Khanna
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भ्रम नेता का
भ्रम नेता का
Sanjay ' शून्य'
Loading...