Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

अर्धांगिनी

चुप चाप रो रहा रातो को,
दुःख जो ढो रहा उन बातो पे,
कभी प्रेम गीत जो गाता था,
कोकिल सा कंठ बजाता था,
तन्हाइयों मे नहीं सो रहा है,
मगन गगन तल कभी सोता था।

किसकी प्रीत सुनता था तब,
कैसे आँखों मे नींद आती थी तब,
दिन भर श्रम करता थकान बिना,
मिलने को आतुर रहता ज्यों शाम ढला,
रहती घर मे बन के संसार सदा,
जलाती हृदय मे प्रेम का अद्भुत दीया।

कैसा सूना होता ?
क्यो खो जाती है संगीत सदा,
रूठ जाना आना ना फिर।
होना कितना सुखद है तेरा,
अर्धांगिनी नर के जीवन का,
अंधकार का चाँद है वही।

रात-दिन का संगम जैसे ,
धड़कनो-साँसो का एक लय बने,
कैसे ना तू जीवन के संग जुड़े,
तुझसे ही भव नइया पार होए,
तेरी पतवार से मेरी नाव बढ़े।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
मां - हरवंश हृदय
मां - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
2901.*पूर्णिका*
2901.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन  के  हर  चरण  में,
जीवन के हर चरण में,
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
میں ہوں تخلیق اپنے ہی رب کی ۔۔۔۔۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
काफिला
काफिला
Amrita Shukla
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
Loading...