Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

अम्बर पुकारे

गतिशील रहना धरती सिखाये
निस्वार्थ सेवा सूरज सिखाये
चलती है दुनियाँ इन्हीं के सहारे |

न सोता है सूरज न थमती है धरती
दोनों के तप से धरा है सरसती
अष्टभुज ऋतु चक्र इनको संवारे |

मानव की मंशा प्रकृति को झुकाए
कम करे मेहनत अधिकतम कमाए
निसर्ग का दोहन कोई न निहारे |

प्रदूषण बढ़े हैं जलवायु, ध्वनि के
सभी पथ रुके हैं शुद्धिकरण के
त्राहि माम्…त्राहि माम अम्बर पुकारे

Language: Hindi
226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Laxmi Narayan Gupta
View all
You may also like:
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
फ़ितरत
फ़ितरत
Ahtesham Ahmad
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
5) “पूनम का चाँद”
5) “पूनम का चाँद”
Sapna Arora
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
देर हो जाती है अकसर
देर हो जाती है अकसर
Surinder blackpen
"कीचड़" में केवल
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त गर साथ देता
वक्त गर साथ देता
VINOD CHAUHAN
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
मेरी पसंद
मेरी पसंद
Shekhar Chandra Mitra
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सार जीवन का सदा, संघर्ष रहना चाहिए (मुक्तक)*
*सार जीवन का सदा, संघर्ष रहना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
उसने कहा....!!
उसने कहा....!!
Kanchan Khanna
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गिलोटिन
गिलोटिन
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...