Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 2 min read

अभिव्यक्ति

?एक अभिव्यक्ति मेरी भी?

“अभिव्यक्त करना”कितना आसान है आजकल|अभिव्यक्ति का आधुनिक त्वरित मंच सोशल मीडिया आखिर आपकी हथेली में ही तो है बस कीबोर्ड पर आपकी उँगलियों की चंद थिरकनें और उड़ेल सकते हो आप मन के भीतर का सारा गुबार,सारा कीचड़ असंपादित ही(संपादित पंक्तियों में आज वह शक्ति कहाँ जो खबरें बना सके,बहस दर बहस आगे बढ़ा सके)
साथ ही इस देश में संविधान ने आपको अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार भी दे रखा है|ये बात और है कि सभी 19(1)का ही हवाला देते हैं कोई भी 19(2)की बात नहीं करता है
सही भी है जब काम की बात पहले ही मिल जाये तो दूसरी बात कौन जानना चाहे तभी ज्यादातर लोग संविधान 19-20अनुच्छेद तक ही पढ़ते हैं शायद 51(क)तक जाने की जहमत नहीं उठाते,अब चूंकि 4जी के जमाने में सब के हाथ में मीडिया है और संविधान प्रदत अौर सहज चयनित अभिव्यक्ति का अधिकार भी, तो बाढ़ सी आ गयी है मानव मन के भीतर भरे भाषायी कीचड़ की,पर दुखद यह है हमारा कीचड़ अच्छा और दूसरे का बुरा की प्रवृति ने बड़ी ही दुरूह स्थिति उत्पन्न कर दी है,समाज गुटों में बँट गया है यह अराजकता कैसे रुके संवेदनशील हृदय समझ नहीं पा रहे हैं|
अभिव्यक्ति का अधिकार,स्वतंत्रता का अधिकार,सूचना का अधिकार,शिक्षा का अधिकार अलाना अधिकार फलाना अधिकार ये वह सूची है जो आम जन को भी रटी होगी पर संविधान में कर्तव्यों का भी उल्लेख है यह बड़े बड़े बुद्धिजीवी भी भूल जाते हैं,जिसका शायद ही कभी राग अलापा जाता हो,जिस पर शायद ही कभी बहस या चर्चा होती हो|कभी कभी लगता है संविधान निर्माताओं ने बेवजह इतना श्रम व समय का अपव्यय किया क्योंकि आज देश में दो ही गुट रह गये जान पड़ते हैं पहला 19(1) का शब्दशः पालन करने वाले दूसरे 19(2)का हवाला देकर इसका विरोध करने वाले|बाकि सारा संविधान,बाकी सारी समस्याएँ अब राजनीति का विषय ही नहीं रही और पता नहीं क्यों यह आशंका बढ़ती ही जा रही है कि लोकतंत्र और संविधान के संरक्षण का कार्य जिस राजनीति पर था,वह संविधान और लोकतंत्र की कब्र पर ही अपने महल बनाने पर अमादा है लेकिन यह समझ कैसे बने कि लोकतंत्र में संविधान ही दीर्घ राजनीति की प्राणवायु है|ईश्वर करे जल्द ही ये बादल छँटे,देश के कर्णधार(नेता,युवा और समस्त संवेदनशील हृदय)अपनी भूमिका को समझें,संपूर्ण संविधान के सभी पक्षों का पालन सब ही जन करें और हमारे देश का कल्याण हो
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

Language: Hindi
Tag: लेख
497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज़ाद भारत का सबसे घटिया, उबाऊ और मुद्दा-विहीन चुनाव इस बार।
आज़ाद भारत का सबसे घटिया, उबाऊ और मुद्दा-विहीन चुनाव इस बार।
*Author प्रणय प्रभात*
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
Vivek Ahuja
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
बुगुन लियोसिचला Bugun leosichla
Mohan Pandey
नाकामयाबी
नाकामयाबी
भरत कुमार सोलंकी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जेठ कि भरी दोपहरी
जेठ कि भरी दोपहरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
Lines of day
Lines of day
Sampada
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
Loading...