Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢

हम रोबोट हो चुके है ,
इश्क़ की गलियां अनजान हो गई ,
लहजे रुक से जाते हैं चक- चकाते नही ,

लबों पर न खुन्नस रहा ,
न रही हँसी मजाक के खुरापात ,
समतल हो गया है यह मैदान ,
अब हम रोबोट हो चुके है ।

कुछ-कुछ कहते रुक सा जाना , आदत हो गई
बंजर सा मुख हो गया नाप तौल के लहजे में ,

सब कुछ धीरे – धीरे खत्म हो रहा है ,
कहा से लाये बचपना ,
इश्क़ की गलियां वीरान हो गई , प्रेमी मर गया
हम रोबोट हो चुके हैं
अब हँसता चेहरा कहाँ से लाये ।

लहजे अब रुक से गए
चक-चकना छूट सा गया
खामोशी अब झलकती है ,
मनहूसियत अब तरेरती है ,
अशांत सा मन किलकारियाँ खोजता है
अकेलापन खुद झंझोरता है

कहा से लाये अब …वह चेहरा ….वह वाकपटुता…. वह वाचालता…..वह हँसी -मजाक
अब तो हम रोबोट हो चुके हैं ।

Language: Hindi
269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नया साल
नया साल
Arvina
It All Starts With A SMILE
It All Starts With A SMILE
Natasha Stephen
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
👌एक न एक दिन👌
👌एक न एक दिन👌
*प्रणय प्रभात*
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
शेखर सिंह
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
!! शिव-शक्ति !!
!! शिव-शक्ति !!
Chunnu Lal Gupta
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
अपने कदमों को
अपने कदमों को
SHAMA PARVEEN
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
उनसे कहना ज़रा दरवाजे को बंद रखा करें ।
Phool gufran
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
Loading...