Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

अब वो किसी और से इश्क़ लड़ाती हैं

रिश्तों की बात कहाँ से करे
वो बिल्कुल भी नहीं समझती हैं
कहने को मेरी पत्नी कहलाती हैं
अब वो किसी और से इश्क लड़ती हैं

अवैध संबंध बनाने से रोको तो
497 से अब आज़ादी दिखती हैं
पक्षपाती कानूनों की धौंस दिखाकर
अब वो किसी और से इश्क लड़ाती हैं

यार से उसकी यारी, अब भी जारी हैं
सातों वचन तोड़कर रातें कई गुजारी हैं
मीलॉर्ड की छत्रछाया बताकर
अब वो किसी और से इश्क लड़ाती है

अब घर घर से यही कहानी आती हैं
इनका भी वही, जो उनकी दर्द बताती है
कभी सास-ससुर, कभी पति को मारकर
अब वो किसी और से इश्क लड़ाती हैं

उसकी बेतुकी हरकतों को रोकें तो
सुबह शाम कोहराम मचाती रहती हैं
पूरे परिवार पर झूठे मुकदमे लिखाकर
अब वो किसी और से इश्क लड़ाती है

Language: Hindi
1 Like · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
अतीत
अतीत
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
"रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
कहते हैं संसार में ,
कहते हैं संसार में ,
sushil sarna
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
भोर के ओस!
भोर के ओस!
कविता झा ‘गीत’
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
अपना-अपना
अपना-अपना "टेलिस्कोप" निकाल कर बैठ जाएं। वर्ष 2047 के गृह-नक
*Author प्रणय प्रभात*
यूँ  भी  हल्के  हों  मियाँ बोझ हमारे  दिल के
यूँ भी हल्के हों मियाँ बोझ हमारे दिल के
Sarfaraz Ahmed Aasee
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
तेरे बिना
तेरे बिना
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देखो-देखो आया सावन।
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
*याद तुम्हारी*
*याद तुम्हारी*
Poonam Matia
Loading...