Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

अब रुक जाना कहां है

फैसला किया चलने का
अभी रुक जाना कहां है!
क्या फर्क पड़ता है कि
मंजिल अब कहां है !!
रुकना मना है अब
भरोसा है हौसलों पर !
स्वागत है हार का भी
मन यह डरता कहां है !!
हार -अनंत है नहीं .
हार से फिर क्यों डरे!
जीत का परचम भी
एक बार फहआना है !!
नैया बीच भंवर में है,
किनारे तक जाना है !
अब ना कोई बहाना है
लौट कर न आना है !!
जो जन मार्ग में छूट गए
कुछ प्रिय हमसे रूठ गए !
कुछ संघर्षों के चलते ही
कुछ रिश्ते हमसे छूट गए !!
वो तट पर सारे खड़े हुए
हाथ मालाओं से जड़े हुए !
स्वागत में मेरे खड़े हुए ..
उन सबको गले लगाना है !!

✍कवि दीपक सरल

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 992 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
#प्रणय_गीत:-
#प्रणय_गीत:-
*Author प्रणय प्रभात*
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
2853.*पूर्णिका*
2853.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
समाज में शिक्षा का वही स्थान है जो शरीर में ऑक्सीजन का।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
*गीता सुनाई कृष्ण ने, मधु बॉंसुरी गाते रहे(मुक्तक)*
Ravi Prakash
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
हालात भी बदलेंगे
हालात भी बदलेंगे
Dr fauzia Naseem shad
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
Loading...