Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया

अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया है
🤔😜🤔
क्योंकि उनका आधार कार्ड पैन कार्ड से लिंक नहीं था।

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह ज़िंदगी
यह ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
कुछ शब्द
कुछ शब्द
Vivek saswat Shukla
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
गीत
गीत
Shiva Awasthi
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
VINOD CHAUHAN
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
पिया बिन सावन की बात क्या करें
पिया बिन सावन की बात क्या करें
Devesh Bharadwaj
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
ये किस धर्म के लोग हैं
ये किस धर्म के लोग हैं
gurudeenverma198
"रंग का मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
Dushyant Kumar
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
#प्रेरक_प्रसंग
#प्रेरक_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...