Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2023 · 2 min read

अब महान हो गए

कल विषय लज्जा के थे,वे आन-बान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

उलट-पुलट ऐसा हुआ,स्थितियां ऐसी बनीं
जितने भी गरीब थे वे सारे हो गए धनी
बेईमान जितने थे वो, बा ईमान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

अंधे लगे देखके औरों के राज खोलने
लंगडे़ लगे दौड़ने तो गूंगे लगे बोलने
सुन नहीं जो पाते थे उनके भी कान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

शिल्प जिनसे होता ना ,वो मूर्तियां गढ़ने लगे
जो नहीं पढे़ कभी अखबार वो पढ़ने लगे
ज्ञान भले न हुआ , पर ज्ञानवान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

जितने भी जुडे़ हुए थे सब विभक्त हो गए
देश का सोचा कभी न देशभक्त हो गए
बुद्धि जिनकी भ्रष्ट थी वो बुद्धिमान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

कल तलक था राज जिनका,अब फकीर हो गए
कायरता जिनका नाम था वो शूरवीर हो गए
शक्ति जिनकी क्षीण थी वो शक्तिमान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

था घृणा का पात्र जो वो आज प्यारा हो गया
तारे सभी चांद हुए , चांद तारा हो गया
पाताल भी चलके धरा से आसमान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

कल जो भारहीन थे वे आज वजनदार है
विपरीत सारे हो गए हैं कहने का ये सार है
समानताओं से पृथक हो ,असमान हो गए
थे गिरे जो कल तलक वो अब महान हो गए

विक्रम कुमार
मनोरा, वैशाली

2 Likes · 1190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
■ भारत और पाकिस्तान
■ भारत और पाकिस्तान
*Author प्रणय प्रभात*
रेशम की डोर राखी....
रेशम की डोर राखी....
राहुल रायकवार जज़्बाती
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्यार के मायने
प्यार के मायने
SHAMA PARVEEN
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
*जिंदगी में साथ जब तक, प्रिय तुम्हारा मिल रहा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आगे हमेशा बढ़ें हम
आगे हमेशा बढ़ें हम
surenderpal vaidya
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
*अयोध्या के कण-कण में राम*
*अयोध्या के कण-कण में राम*
Vandna Thakur
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
Ram Krishan Rastogi
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
आज का इंसान ज्ञान से शिक्षित से पर व्यवहार और सामजिक साक्षरत
पूर्वार्थ
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
Loading...