Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

अब न कोई गांधी न टैगोर है

कैसा ये रिवाज है कैसा ये समाज है।
फिजाओं में जहर है, कैसा मेरा शहर है।।।
बढ़ाई जा रही है जातिवाद की खाई।
क्यों मानवता पे आज बन आई।।।
धमकियों का चहुंओर शोर है।
नानक, गौतम, बुद्ध की धरती क्यों गोडसे घनघोर है।।।
प्रीत होती रीत यहां की, अब देख लेने से हर कोई भावविभोर है।
नज़र लग गई है कोई मुल्क मेरे को अब न कोई गांधी न टैगोर है।।।
नाम भगत सिंह का काम शैतान का
मजहब-मजहब का कान फाडू शोर है।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
क़ाफ़िया तुकांत -आर
क़ाफ़िया तुकांत -आर
Yogmaya Sharma
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
"ख्वाबों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
इतना आदर
इतना आदर
Basant Bhagawan Roy
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
ପିଲାଦିନ ସଞ୍ଜ ସକାଳ
Bidyadhar Mantry
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
रूह की चाहत🙏
रूह की चाहत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
#गणपति_बप्पा_मोरया
#गणपति_बप्पा_मोरया
*Author प्रणय प्रभात*
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
छोड़ जाते नही पास आते अगर
छोड़ जाते नही पास आते अगर
कृष्णकांत गुर्जर
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...