Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

अब ना होली रंगीन होती है…

अब ना होली रंगीन होती है…
ना दिवाली पे उजाला होता है
शाम ढलते ही मेरे हाथों में ..
जाम़ का प्याला होता है…..

— केशव

58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वप्न बेचकर  सभी का
स्वप्न बेचकर सभी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
प्रेमदास वसु सुरेखा
मजदूर
मजदूर
Dr Archana Gupta
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Readers Books Club:
Readers Books Club:
पूर्वार्थ
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
शादी कुँवारे से हो या शादीशुदा से,
Dr. Man Mohan Krishna
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"किस पर लिखूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
*अध्याय 9*
*अध्याय 9*
Ravi Prakash
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
ज़िंदगी में इक हादसा भी ज़रूरी है,
ज़िंदगी में इक हादसा भी ज़रूरी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गुरु ही साक्षात ईश्वर
गुरु ही साक्षात ईश्वर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
जय हो जनता राज की
जय हो जनता राज की
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शिकवा ,गिला
शिकवा ,गिला
Dr fauzia Naseem shad
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
Loading...