Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ

अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
ये वक़्त बोलने का है कुछ बोलिये मियाँ

अब हो सके तो नींद से ग़फ़लत की जागिये
दिन चढ़ चुका है,आप बहुत सो लिये मियाँ

बदले में हम ने आपको क्या क्या नहीं दिया
अहसान हमने आपके जो – जो लिये मियाँ

यूँ ही बरस रहा है लहू , आसमान से
अब तो फ़िज़ा में ज़ह्र को मत घोलिए मियाँ

हम किस क़दर अजीब हैं ‘आसी’ ग़रीब लोग
ख़ुद आप रो लिये कभी, ख़ुश हो लिये मियाँ

Language: Hindi
95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-270💐
💐प्रेम कौतुक-270💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
2278.⚘पूर्णिका⚘
2278.⚘पूर्णिका⚘
Dr.Khedu Bharti
We Would Be Connected Actually
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
ट्यूशन उद्योग
ट्यूशन उद्योग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुरानी पेंशन
पुरानी पेंशन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
ख़बर ही नहीं
ख़बर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
बड़ी होती है
बड़ी होती है
sushil sarna
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
उस वक़्त मैं
उस वक़्त मैं
gurudeenverma198
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*धन्य अयोध्या जहॉं पधारे, पुरुषोत्तम भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
Loading...