Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

अब तुझपे किसने किया है सितम

अब तुझपे किसने किया है सितम।
आँसू हैं क्यों अब तेरी आँखों में।।
हम तो अलग तुमसे हो गये।
क्यों नहीं खुशी अब तेरी आँखों में।।
अब तुझपे किसने ———————।।

आई नहीं थी तुम्हें तो पसंद।
मोहब्बत हमारी, बस्ती हमारी।।
अब तो तुम हो राजा की रानी।
क्यों नहीं सुकून अब तेरी आँखों में।।
अब तुझपे किसने———————।।

कमत्तर तुम्हें तो लगती थी कल।
किस्मत हमारी, हस्ती हमारी।।
अब तो नहीं तुझको कोई कमी।
क्या शेष ख्वाब है अब तेरी आँखों में।।
अब तुझपे किसने——————–।।

फैली है रोशनी तेरे हर तरफ।
महके हैं फूल तेरे बाग में।।
बहुत फिक्र है तेरी तेरे सनम को।
क्या गम है अब तेरी आँखों में।।
अब तुझपे किसने———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 1 Comment · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त
वक्त
Jogendar singh
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
3378⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
Shashi Dhar Kumar
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
"वक्त"के भी अजीब किस्से हैं
नेताम आर सी
कोई जब पथ भूल जाएं
कोई जब पथ भूल जाएं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अवध में राम
अवध में राम
Anamika Tiwari 'annpurna '
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
gurudeenverma198
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
लेकिन क्यों ?
लेकिन क्यों ?
Dinesh Kumar Gangwar
"😢सियासी मंडी में😢
*प्रणय प्रभात*
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
VINOD CHAUHAN
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
" रात "
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
Loading...