Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

अब कैसे दिन आएंगे???

?
अब कैसे दिन आएंगे
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
एक महानुभाव ने आकर के
पूछा ये आँख मिलकर के ।
अच्छे दिन तो हुए पुराने
अब कैसे दिन आएंगे ??

मैं मुस्काया,आदत है अपनी,
और कहा कि गौर दीजिये ।
अच्छे बुरे को तज दुनियाँ में
सच्चे दिन आ जायेंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने………..

सुनिए गर मंशा हो सच्ची
सत्य जानने की इच्छा हो ।
न्याय के आते ही जीवन से
पाप स्वतः मिट जायेंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………

चार हाथ करने से अबतक
कुछ भी तो हासिल ना हुआ ।
हाथ सत्य का करो बलि
निर्बलता सब मिट जाएंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………

एक मिली थी रूह मुझे
कहने लगी कितना देरी है ।
मैंने बतलाया उनको कि
अब बजने लगी रणभेरी है ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………..

कुछ ही पल बाकी विहान को
फिर करुणारुण आएंगे ।
न्यायधर्म से धरती पर
फिर से सतयुग आ जाएंगे ।।
अच्छे दिन तो हुए पुराने…………


NDS सामरिक अरुण
झारखण्ड बिहार
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम रंग में रंगी बांसुरी भी सातों राग सुनाती है,
प्रेम रंग में रंगी बांसुरी भी सातों राग सुनाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मेरे नाम की जय-जयकार करने से अच्‍छा है,
शेखर सिंह
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
*गैरों सी! रह गई है यादें*
*गैरों सी! रह गई है यादें*
Harminder Kaur
हृदय परिवर्तन
हृदय परिवर्तन
Awadhesh Singh
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
बरसात
बरसात
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
कुली
कुली
Mukta Rashmi
Loading...