Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में

जवानी लुटा दी उसके प्यार में,
बचा नहीं है अब कुछ बेचने को बाजार में,
कहा उनसे अब तो कबूल कर लो मुझे,
उसने कहा दूसरा बैठा है बिकने को मेरे प्यार में……..

Language: Hindi
1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
*पत्थरों  के  शहर  में  कच्चे मकान  कौन  रखता  है....*
*पत्थरों के शहर में कच्चे मकान कौन रखता है....*
Rituraj shivem verma
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
विकल्प
विकल्प
Dr.Priya Soni Khare
अपने आँसू
अपने आँसू
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
"
*Author प्रणय प्रभात*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
VINOD CHAUHAN
पागल
पागल
Sushil chauhan
नया साल
नया साल
Mahima shukla
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
Ranjeet kumar patre
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...