Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2021 · 1 min read

अब अरमान दिल में है

कुछ तो कर गुजरने का
अब #अरमान दिल में है !
जमीन नहीं है मंजिल मेरी
खुला #आसमान दिल में है!!

#आसमानों की जद में रहना,
फिर भी अपनी #हद में रहना,
जो है अपने कद में रहते ;
उनका #सम्मान दिल में है!!

नहीं हदों का #खौफ जिनको,
बुलंद सपनों की जद में है!
समुद्रों में कुछ भी नहीं है ;
जो मिठास #स्वप्न_मद में है!!

जान लुटाने को तैयार;
हमेशा रहते तत्पर जो!
धन्य है यह मां भारती,
ऐसे सिपाही सरहद में है!!

आंधियां चलने लगी,
हौसला भी उड़ गया!
फिर -2 तिनका लाने का,
अजब #हौसला दिल में है!!

लहरों के साथ बहा कभी,
लहरों के विपरीत खड़ा है !
संघर्षों में जिद पर अड़ा है,
अब यह गुमान दिल में है!!

#दीपक_बवेजा_सरल

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 329 Views
You may also like:
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
जागो।
Anil Mishra Prahari
*पुराना फोटो(बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
बैठ पास तू पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
चांद
Annu Gurjar
करके तो कुछ दिखला ना
कवि दीपक बवेजा
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईशनिंदा
Shekhar Chandra Mitra
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दोहा
नवल किशोर सिंह
मेरा दिल क्यो मचल रहा है
Ram Krishan Rastogi
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
वो इश्क याद आता है
N.ksahu0007@writer
हीरा बा
मृत्युंजय कुमार
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
मेरी बनारस यात्रा
विनोद सिल्ला
वज्रमणि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
*if my identity is lost
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गलती का समाधान----
सुनील कुमार
भूला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...