Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2021 · 1 min read

अब अरमान दिल में है

कुछ तो कर गुजरने का
अब #अरमान दिल में है !
जमीन नहीं है मंजिल मेरी
खुला #आसमान दिल में है!!

#आसमानों की जद में रहना,
फिर भी अपनी #हद में रहना,
जो है अपने कद में रहते ;
उनका #सम्मान दिल में है!!

नहीं हदों का #खौफ जिनको,
बुलंद सपनों की जद में है!
समुद्रों में कुछ भी नहीं है ;
जो मिठास #स्वप्न_मद में है!!

जान लुटाने को तैयार;
हमेशा रहते तत्पर जो!
धन्य है यह मां भारती,
ऐसे सिपाही सरहद में है!!

आंधियां चलने लगी,
हौसला भी उड़ गया!
फिर -2 तिनका लाने का,
अजब #हौसला दिल में है!!

लहरों के साथ बहा कभी,
लहरों के विपरीत खड़ा है !
संघर्षों में जिद पर अड़ा है,
अब यह गुमान दिल में है!!

#दीपक_बवेजा_सरल

Language: Hindi
1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
पितृ दिवस पर....
पितृ दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्यों तुम्हें याद करें
क्यों तुम्हें याद करें
gurudeenverma198
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
माँ शारदे-लीला
माँ शारदे-लीला
Kanchan Khanna
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*प्रणय प्रभात*
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक बेजुबान की डायरी
एक बेजुबान की डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
Ravi Prakash
Loading...