Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

अबकी बसंत

आई बसंत की बेला.
नभ उपवन में छाई मेला.
अमीया पर मंजर ले लाई.
पपीहा संग मधुर पवन बहाई.
रोम – रोम पुलकित हो जाती.
सरसों की बाली जब लहराती.

क्यों मौन हुए जाते शरद.
हवाओं की तरह बहक जाते शरद.
बसंत उमंग संग फाग बहावे.
होरी ठिठोली संग स्वांग रचावे.
रोम – रोम पुलकित हो जाती.
सरसों की बाली जब लहराती.

अईहे बरस साजन हमरे.
रंग में नया उमंग रचईहे.
मयूर नाची कोयल गाई.
बसंत पवन संग बादल छाई.
रोम – रोम पुलकित हो जाती.
सरसों की बाली जब लहराती.

अवधेश कुमार राय…..

Language: Hindi
462 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
सत्य कुमार प्रेमी
जहरीले धूप में (कविता )
जहरीले धूप में (कविता )
Ghanshyam Poddar
हालात पर फ़तह की तैयारी कीजिए।
हालात पर फ़तह की तैयारी कीजिए।
Ashwini sharma
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
"वोट के मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
Manisha Manjari
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
"नृत्य आत्मा की भाषा है। आत्मा और परमात्मा के बीच अन्तरसंवाद
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम की पुकार
प्रेम की पुकार
Shekhar Chandra Mitra
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
2275.
2275.
Dr.Khedu Bharti
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
༺♥✧
༺♥✧
Satyaveer vaishnav
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...