Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

अफ़सोस

अफ़सोस जताने ये मन निकला
क्यों ज्ञान में खोखलापन निकला
हम करते रहे श्रेष्ठ सिद्ध स्वयं को
मन से न अहम का घुन निकला
परिवार बिना माने अबला
ये कैसा नया उसूल निकला
जो साथ रहे बनकर सहयोगी
उन पर फिर ये रोष ही निकला
नहीं स्वीकार किया नवसुमन को
ये मधुवन क्यों पतझड़ निकला
अनुभव फीका क्यों पड़ जाता
जब अंकुर कोई नया निकला
अभी देर बहूत है समझाने में
वास्तव समझा क्या क्या निकला
आओ कारें फिर मन्थन चिंतन
बोया आम तो क्यों बबूल निकला
आग्रह है मानसिकता बदलो
तिमिर मिटा नव मार्ग निकला
हे श्री मदन कृपा कर दो
आ पाये हमे मिलजुल चलना
आहत बहुत मैं दृष्टिकोण से
क्यों स्त्री को इतना तुच्छ समझा
हे विवेक शील विद्जन जानो
यहीं सृष्टि का उदभव निकला

क्षमा सहित
??????

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 249 Views
You may also like:
हिन्द की तलवार हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हे मानव मत हो तू परेशान
gurudeenverma198
*अटल जी की चौथी पुण्यतिथि पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि*
Author Dr. Neeru Mohan
मौन
अमरेश मिश्र 'सरल'
ये दुनिया इश्क़ को, अनगिनत नामों से बुलाती है, उसकी...
Manisha Manjari
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अद्भुत सितारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
✍️मेरे जिंदगी का कैनवास...
'अशांत' शेखर
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
सिपाही
Buddha Prakash
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
वह मुझे याद आती रही रात भर।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं वट हूँ
Rekha Drolia
गीत
धीरेन्द्र वर्मा "धीर"
अपना देश
shabina. Naaz
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
जय माता की
Pooja Singh
सृजन
Prakash Chandra
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
आत्मनिर्भरता का फार्मूला
Shekhar Chandra Mitra
*पॉंव जमाना पड़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...