Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2024 · 1 min read

अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब

अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब होगा पर आप वक्त नही देते होंगे आपने दोस्तो परिवार को संवाद और सहचर के तरीके से पर जिंदगी में ऐसा वक्त आएगा जब ना सक्सेस होगा और आप स्ट्रगल कर रहे होंगे तब आपके पास वक्त होगा तब आप दोस्त और परिवार को हो ढूंढोगे सहारे के लिए ।
तो पैसा कमाओ सक्सेसफुल बना पर अपने रिश्ते दोस्तो और परिवार से मजबूत रखो संवाद समझ और सहचर के स्तर पर ताकि आपके अच्छे और बुरे दोनो वक्त में आत्मिक व्यवहारिक मानसिक भाव और स्थिरता मजबूत बना रहे।

मानसिक और आत्मिक स्थिता पैसे और सक्सेस से नही बल्कि मजबूत व्यवहारिक और सामाजिक संबंधों संवाद और समझ से आती है।
वक्त निकले अपने लिए अपनो के लिए, सिर्फ वक्त पैसा करियर सपने ने ना दे। आपके अपनो और आपको दोनो को मजबूत अपने अपन के लिए वक्त की जरूरत है।
वक्त है तो संवाद है संवाद है समझ है समझ है तो प्रेम की प्रगति है व्यवहारिक मानसिक आत्मिक स्तर पर।

वरना तनाव डिप्रेशन एंसाइटी असफलता और बुरे वक्त से निकलने का एक मार्ग स्वस्थ रिश्ते और स्वस्थ संवाद जो आपको स्वस्थ मानसिकता देंगे । ये याद रखे।
वक्त, संवाद और रिश्ते उतने जरूरी है जितने पैसे, तरक्की, सफलता, स्टेटस जीवन में

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
दिन भी बहके से हुए रातें आवारा हो गईं।
दिन भी बहके से हुए रातें आवारा हो गईं।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
#कविता-
#कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी को इस तरह भी
ज़िंदगी को इस तरह भी
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
सौ बरस की जिंदगी.....
सौ बरस की जिंदगी.....
Harminder Kaur
Loading...