Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

अपने ही में उलझती जा रही हूँ,

अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
लगता है जैसे बदलती जा रही हूँ।

तोड़कर वादों के घुटन भरे बंधनों को,
वक़्त के साथ जैसे ढलती जा रही हूँ।

नहीं है पारावार कोई पारावार का,
रत्नाकर में गहरे उतरती जा रही हूँ।

धरित्री सी झेलकर सौदामिनी को,
मेदनी सी क्षीण हो मरती जा रही हूँ।

परिभ्रमण कब होगा प्रत्यावर्तन होकर,
नहीं हैं स्वीकार्य समझती जा रही हूँ।

नहीं है बोधगम्य निश्चलता और ऋजुता,
प्रदक्षिणा संत्रस्त होकर करती जा रही हूँ।

निरूपाय नहीं है यूँ ही उद्वेतात्मक होना,
इकरार को इनकार में बदलती जा रही हूँ।

डॉ दवीना अमर ठकराल’देविका’

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओह भिया क्या खाओगे ?
ओह भिया क्या खाओगे ?
Dr. Mahesh Kumawat
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
inner voice!
inner voice!
कविता झा ‘गीत’
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
पुरवाई
पुरवाई
Seema Garg
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
अहमियत हमसे
अहमियत हमसे
Dr fauzia Naseem shad
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
याद आते हैं
याद आते हैं
Juhi Grover
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
Mahima shukla
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
Loading...