Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,

अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
आपको लक्ष्य प्राप्ति की राह पर अग्रसित कर,
लक्ष्य के समीप ले जाएगा।
इस लक्ष्य प्राप्ति सफर की मौज ही, जीवन का श्रेष्ठ रस है।

1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
Shubham Pandey (S P)
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐प्रेम कौतुक-370💐
💐प्रेम कौतुक-370💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
*लगा है रोग घोटालों का (हिंदी गजल/गीतिका)*
*लगा है रोग घोटालों का (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
पुष्पों की यदि चाह हृदय में, कण्टक बोना उचित नहीं है।
पुष्पों की यदि चाह हृदय में, कण्टक बोना उचित नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
■ आज का #दोहा...
■ आज का #दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
मैंने साइकिल चलाते समय उसका भौतिक रूप समझा
Ms.Ankit Halke jha
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
:: English :::
:: English :::
Mr.Aksharjeet
Loading...