Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2018 · 1 min read

अपने अपने मन की

अपने मन की करते थे हम जब
उनसे आस लगा बैठे अब
जो अपने मन की कहते हैं
हम चाहते थे अपने मन की,
वो अपने मन की कर बैठे।
हम भी क्या करते तब,
जब सब कुछ धुन्धला सा दिखता था,
जिन पर थी तब आस लगाई
वही आस हमारी खो बैठे ।
ऐसे में एक नया मसीहा,
बन कर सामने कोई आये,
औरों कि भान्ति हम सब भी,थे नजर टिकाए हुए ।
उभर रहा था,तब एक चेहरा,
सीना चौडा किए हुए,
उबे उबे से हम भी थे तब,
एक थका सा चेहरा देखते हुए।
रहता था वह गुम सुम,गुम सुम,
न कहते करते कुछ दिखता था,
गर कहा भी उसने कभी कुछ,
तो भाव ही न उसका हम समझ सके,
बस यों ही बीते,साल दर साल,
और हम गमो में खोते चले गये,
और इसी कसक कोहम दिल पे ले बैठे।
उभर गयी जब नयी सी मूरत,
हम आस उसी पर लगा बैठे,
ऐसे झूमे शब्दो में उसके,
कि सुध बुध अपनी खो बैठे,
देखा था सपना जो उनके कहने में,
बता कर जुमला वह बिखर गये,
न आया ही धन काला वापस,
नोट बंदी से हम झुलस गये,
रही सही जी एस टी,कर गयी पुरी ।
अच्छे दिनो का वादा किया था,
दिन अचछे भी कहीं खो गये,
भरोशा किस पर कैसे करें,
सबके सब एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं,
हम हक्के बक्के बनके भौंचके से है खडे,
आज फिर उसी चौराहे पर हैं पुन: खडे।

Language: Hindi
504 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jaikrishan Uniyal
View all
You may also like:
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
दिल में बसाना नहीं चाहता
दिल में बसाना नहीं चाहता
Ramji Tiwari
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
Indu Singh
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जंजालों की जिंदगी
जंजालों की जिंदगी
Suryakant Dwivedi
इतनी वफ़ादारी ना कर किसी से मदहोश होकर,
इतनी वफ़ादारी ना कर किसी से मदहोश होकर,
शेखर सिंह
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
Shweta Soni
हो पवित्र चित्त, चित्र चांद सा चमकता है।
हो पवित्र चित्त, चित्र चांद सा चमकता है।
Sanjay ' शून्य'
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
'चो' शब्द भी गजब का है, जिसके साथ जुड़ जाता,
SPK Sachin Lodhi
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
असली परवाह
असली परवाह
*प्रणय प्रभात*
समाचार झूठे दिखाए गए हैं।
समाचार झूठे दिखाए गए हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
गृहणी का बुद्ध
गृहणी का बुद्ध
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
दूरी सोचूं तो...
दूरी सोचूं तो...
Raghuvir GS Jatav
चन्द्रमा
चन्द्रमा
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...