Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2023 · 1 min read

अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।

अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
फर्क न कुछ हम पर पड़े, तू भी अपनी बोल।।

सिर्फ दिखावा-शान में, कहकर झूठी बात।
करते साबित तुम स्वयं, ओछी अपनी जात।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
3 Likes · 325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
खालीपन
खालीपन
MEENU
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
जीवन की परिभाषा क्या ?
जीवन की परिभाषा क्या ?
Dr fauzia Naseem shad
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
Ms.Ankit Halke jha
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Ham tum aur waqt jab teeno qismat se mil gye.....
Ham tum aur waqt jab teeno qismat se mil gye.....
shabina. Naaz
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-330💐
💐प्रेम कौतुक-330💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🙅परम ज्ञान🙅
🙅परम ज्ञान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
साथ जब चाहा था
साथ जब चाहा था
Ranjana Verma
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
वो सुहानी शाम
वो सुहानी शाम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
2997.*पूर्णिका*
2997.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
Er. Sanjay Shrivastava
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...