Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

अपनी टोली

काश होती मेरी भी
एक छोटी सी टोली
समझती जो मेरी हर बात
और वो मेरी हर बोली

जो कुछ कहता मैं
कभी बढ़ा चढ़ा कर
वो सच साबित कर देती
उसे हां में हां मिलाकर

इतना आसान भी नहीं है
यहां पर रहना
कब तक नज़रंदाज़ करेंगे
मुश्किल है कहना

कर लो स्वीकार तुम
उनकी दासता
किसी और से न रखो
तुम और वास्ता

अपना लेंगे तुम्हें सहर्ष
यही बचा है अब रास्ता
एक बार करके देख
उनके साथ तू नाश्ता।

5 Likes · 1 Comment · 1477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"प्यार की नज़र से"
Dr. Kishan tandon kranti
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
DrLakshman Jha Parimal
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
बेड़ियाँ
बेड़ियाँ
Shaily
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2495.पूर्णिका
2495.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
*तुम्हारे साथ में क्या खूब,अपनी इन दिनों यारी (भक्ति गीत)*
*तुम्हारे साथ में क्या खूब,अपनी इन दिनों यारी (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
■ आज ही बताया एक महाज्ञानी ने। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
आर.एस. 'प्रीतम'
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Loading...