Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा

अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा देने में माहिर होता है क्योंकि गरीबी एक धोखा है। निर्धनता जेब में हो तो ठीक परंतु मस्तिष्क में नहीं होनी चाहिए, क्योंकि यही गरीबी है।
जय सियाराम

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
"बलवान"
Dr. Kishan tandon kranti
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
#तेवरी / #अफ़सरी
#तेवरी / #अफ़सरी
*Author प्रणय प्रभात*
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
सविता की बहती किरणें...
सविता की बहती किरणें...
Santosh Soni
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
हिन्दी दोहे- सलाह
हिन्दी दोहे- सलाह
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3353.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3353.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
Praveen Bhardwaj
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
Loading...