Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

विश्वास

अपना विश्वास खो देने के बाद मनुष्य अपना सब कुछ खो देता है।

Paras Nath Jha

268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
मनभावन
मनभावन
SHAMA PARVEEN
शीतलहर (नील पदम् के दोहे)
शीतलहर (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
*पश्चाताप*
*पश्चाताप*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
■ धन्य हो मूर्धन्यों!
*प्रणय प्रभात*
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
झाँका जो इंसान में,
झाँका जो इंसान में,
sushil sarna
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
"पेंसिल और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
अंधभक्तों से थोड़ा बहुत तो सहानुभूति रखिए!
शेखर सिंह
दस्तूर
दस्तूर
Davina Amar Thakral
पूरी निष्ठा से सदा,
पूरी निष्ठा से सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
Loading...