Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

अपना पराया

-: अपना पराया :-

हमारी शादी को छह माह से भी अधिक हो गये थे। माँ अपनी बहू का विशेष ध्यान रखती थी। मैंने सोचा नई-नई है, इसलिए स्थिति ऐसी है, लेकिन तीन साल बाद भी वही स्थिति देखकर एक दिन मैंने माँ से पूछ ही लिया- ‘‘माँ ! तुम तो अपनी बहू को इतना प्यार करती हो, जैसे वह तुम्हारी अपनी सगी बेटी हो।’’
माँ ने समझाया- ‘‘बेटी अपनी कहाँ होती है बेटा ? शादी के बाद तो वह परायी हो जाती है। शादी के बाद परायी बेटी जब अपनी हो जाती है, तो फिर मैं उसे क्यों न प्यार करूँ ?
माँ की बातें सुनकर मन को बड़ा संतोष हुआ, काश ! सभी माँएँ ऐसा ही सोचतीं, तो आज दहेज समस्या न होती और इसके नाम पर कोई बेटी या बहू असमय काल-कवलित न होती।
-डाॅ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
Dr.Pratibha Prakash
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
SADGURU IS TRUE GUIDE…
SADGURU IS TRUE GUIDE…
Awadhesh Kumar Singh
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
ruby kumari
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
"वंशवाद की अमरबेल" का
*Author प्रणय प्रभात*
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
शेखर सिंह
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3328.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3328.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"परिवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
टैडी बीयर
टैडी बीयर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...