Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2022 · 1 min read

अपना अपना आवेश….

स्वच्छ नहीं विचारों के वेश
बदल रहा परिवेश
समावेश दिखता नहीं —
बस अपना अपना आवेश .!!

स्वार्थ यहां परमार्थ कहां
भावार्थ नहीं यथार्थ कहां
निजता चरम लुप्त करम
सुयोगता नहीं है शेष —
बस अपना अपना आवेश…!!

मन प्रदूषित तन सुगंधित
आडंबरो से रचा स्वयं को
सिमटता जा रहा जीवन
हरपल हरक्षण क्लेश —
बस अपना अपना आवेश…!!

सदहृदय का ना संचार दिखे
मानवीय ना व्यवहार दिखे
स्वयं-शब्द की लालसा
क्यों कर मिले विशेष —-
बस अपना अपना आवेश..!!

नादान नहीं पर रंगे किसरंग में ?
दिशा कौन सी चले किस संग में ?
ज्ञात है — सब रिक्त–सब शून्य है
सच की धरा पर रहते है —
केवल स्मृतियों के अवशेष —
क्यूं अपना अपना आवेश….??

—– रंजित तिवारी
पटेल चौक, कटिहार
बिहार , पिन –854105
संपर्क — 6200126456

Language: Hindi
1 Like · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
Rj Anand Prajapati
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अध्याय 6*
*अध्याय 6*
Ravi Prakash
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
'I love the town, where I grew..'
'I love the town, where I grew..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
shabina. Naaz
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/64.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
😊लघु-कथा :--
😊लघु-कथा :--
*प्रणय प्रभात*
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
6
6
Davina Amar Thakral
"बैठे हैं महफ़िल में इसी आस में वो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
Anil chobisa
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
Loading...