Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 5 min read

“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )

डॉ लक्ष्मण झा परिमल

=======================

कैजुअल लीव

==========

मेरे घर दुमका से मेरे पिता जी का लिखा एक पोस्टकार्ड आया !-

“बेटे ! छुट्टी लेकर जल्दी आ जाओ ! इस साल तुम्हारी सभागाछी सौराठ से शादी होगी ! हमलोगों को मधुबनी जाना है ! 20 जून से 30 जून तक सभा चलेगी ! इसी बीच में तुम्हारी शादी होगी !”

मुझे शादी की जितनी खुशी नहीं थी उतनी उत्सुकता छुट्टी लेने को थी ! बैसे कहने के लिए मेरी मेडिकल की मिलिटरी ट्रैनिंग ,2 टेक्निकल ट्रैनिंग बटालियन, आर्मी मेडिकल कॉर्पस सेंटर और कॉलेज, लखनऊ छावनी में चल रही थी ! भयानक प्रशिक्षण से कुछ दिन तो राहत मिलेगी !

शाम 7 बजे रोल कॉल में मैंने रिपोर्ट किया ,-“ घर से चिठ्ठी आयी है ! मुझे छुट्टी चाहिए !”

सुबह कमांडींग ऑफिसर ने 18 दिनों की छुट्टी दे दी ! ट्रैनईस को 10 दिनों की ही छुट्टी मिलती थी ! मेरे केस में अनुनय विनय के बाद 18 दिनों की मिल गयी !

20 जून 1974 को अमृतसर मेल से चला और दूसरे दिन 21 जून 1974 को दुमका पहुँच गया ! बस 21 तारीख अपने घर में रहे और दूसरे दिन 22 तारीख को मधुबनी के लिए निकल पड़े ! पिता जी , मेरे बड़े भाई और मैं पिलखवाड पहुँच गए ! पिलखवाड मेरा मामा गाँव है ,मेरे भाई की शादी भी वहीं हुई है और मेरी छोटी बहन का भी ससुराल पिलखवाड ही है ! हमलोग छोटी बहन के घर पर रुके !

सभागाछी सौराठ

============

मधुबनी से पश्चिम 8 किलोमीटर सौराठ गाँव मे हरेक वर्ष वैशाख में 10 दिनों के लिए सभा लगती है ! यह सभा सिर्फ मैथिल ब्राह्मण के वर और कन्या के विवाह के लिए लगती है ! आस -पास के गाँवों के सिर्फ लड़के और लड़के के पुरुष संबंधी यहाँ आते हैं ! अलग -अलग गाँवों के अलग- अलग पेड़ों के नीचे कम्बल बिछाया जाता है ! लोग अन्य गाँव के निकट पहुँचकर योग्य वर का चुनाव करते हैं ! पंजीकार के पास सिद्धांत दोनों पक्ष के लिखाए जाते हैं और उसी दिन या एक दो दिनों के बाद शादी हो जाती है !

पिलखवाड पूवारी टोल के कम्बल पर हम लोग बैठ गए ! बहुत से गाँव के लोग आए ! वे देखते और बैठकर कुछ पुँछते और चले जाते ! दरअसल यह दृश्य कहीं देखने को नहीं मिलता है ! सारे के सारे लाल- पीले धोती पहन रखे थे ! मैंने भी लाल धोती पहन रखी थी ! रंगीन कुर्ता और सर पर मिथिला का लाल पाग !

कई विभिन्य गाँवों के लोग आए ! उनलोगों ने मेरा साक्षात्कार लिया ! कितने लोग अपनी बेटी का व्याह दूर में नहीं करना चाहते थे ! मौलिक रूपेण हमलोग यहाँ के ही हैं ,पर वर्तमान में दुमका रहने वाले को मिथिलवासी भदेश और दक्षिणाहा कहते हैं इसलिए हमें दूर के ही समझते हैं !

सौराठ के श्री उदित नारायण झा और मेरे पिता पंडित दशरथ झा दोनों पटना के जेल में स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान थे ! दोनों घनिष्ठ मित्र थे ! सभा गाछी के करीब श्री उदित बाबू घर था ! वहीं हमलोगों ने भोजन किया ! भोजनोपरांत उदित बाबू ने प्रस्ताव रखा ,-

“ पंडित जी ! क्या आप अपने लड़के को दे सकते हैं ?”

मेरे पिता जी ने जवाब दिया ,-

“ लक्ष्मण तो आपका ही लड़का है ,आप जैसा ठीक समझे !”

मैं खुश था मेरी शादी सौराठ हो रही है ! मिथिला में सौराठ गाँव बड़ा ही प्रसिद्ध है !

सभा लौटते -लौटते पता लगा लड़की उदित बाबू की नतीनी है और वे लोग बेगूसराय के रहने वाले हैं !

मैंने अपने पिता जी को स्पष्ट शब्दों में कहा ,

“ बाबू जी , शादी मैं करूँगा तो मिथिला में, नहीं तो सभा में आने का क्या मतलब ?”

हमलोग सभागाछी पहुँच गए ! पिलखवाड वाले श्री उमानाथ झा शिबीपट्टी के लड़की से शादी करवाना चाहते थे ! उनलोगों को हमलोगों का संबंध भी पसंद आया !

सभागाछी में युद्ध का माहोल

=====================

सौराठ के श्री उदित बाबू और शिबीपट्टी के श्री उमानाथ जी दोनों संबंध से समधी थे ! श्री उदित बाबू को जब पता लगा कि मैं उनकी नतनी से विवाह नहीं करना चाहता हूँ तो एक युद्ध का माहोल बनने लगा ! किसी भी लड़की को हमलोगों ने नहीं देखा था ! और ना देखने की प्रथा थी !

सौराठ के उनदिनों विजय झा दवंग माने जाते थे ! और यह क्षेत्र भी उन्हीं का था ! यहाँ शादी के लिए लड़के को उठा लिए जाते हैं ! सौराठ वाले एक तरफ और पिलखवाड और शिबीपट्टी वाले दूसरे तरफ !

विजय ने कहा ,-

लड़का तो किसी हालत यहाँ से अब जा नहीं सकता है ! यह सौराठ के प्रतिष्ठा की बात है ! पिलखवाड के रामचन्द्र ठाकुर नामी पहलवान थे वे हमारे साथ ही थे ! उन्होंने भी विजय को कहा ,-

“ देखिए , शादी -विवाह विवादों के नींव पर नहीं होनी चाहिए ! कल हमलोग आएंगे फिर बैठके बातें होगी !”

अभी तो कुछ दिन और सभा रहेगी ! किसी तरह हमलोग निकलकर मधुबनी होते पिलखवाड पहुँच गए !

और हमलोगों ने निर्णय किया कि अब सभागाछी जाना खतरे से खाली नहीं !

पिलखवाड से ही विवाह की योजना

======================

मेरी छुट्टी बीत रही थी ! “अब शादी हुई तो ठीक है नहीं तो वापस जाना होगा !” बैसे पिलखवाड के ग्रामीण लोगों की अभिलाषा थी कि मेरी शादी जल्द हो जाए ! मैंने तो सिर्फ सुना था कि लड़की बहुत अच्छी है ! घर की महिलाओं का भी समर्थन था ! मेरे बहनोई से बड़े उग्रमोहन ठाकुर को शिबीपट्टी भेज गया ! वे पैदल मगरपट्टी ,देहट ,बेल्हबाड़ होते हुए शिबीपट्टी पहुँचे ! दूसरे दिन मेरे होने वाले ससुर अपने साइकिल पर बैठकर पिलखवाड आए ! बहुत सौहार्द पूर्ण मेरे पिता जी से बातें हुईं ! दोनों पक्ष के परिचय लिए गए ! सिद्धांत के लिए फिर सौराठ जाना था ! सारे पंजीकार ( Registrar) मिथिला के वहीं बैठते हैं ! दोनों पक्ष को सिद्धांत दिये जाते हैं ! तब शादी की प्रक्रिया हो सकती है ! तीसरे दिन सिद्धांत मिला और 3000 रुपये भी मेरे होने वाले ससुर श्री उमानाथ झा जी ने मेरे पिता को दिया ! शादी 28 ,जून ,1974 को तय की गई !

बारात प्रस्थान

==========

पिलखवाड़ से शिबीपट्टी गाँव -गाँव होते हुए 10 किलोमीटर था ! वर्षा खूब जमकर हुई थी ! मधुबनी की चिकनी मिट्टी में फिसलाहट अधिक होती है ! खेत और पगदंडिओं को पार करते कुल 9 बराती और 1 लोचना खबास चल पड़े ! महिलायें मंगल गीत गायीं ! सबने विदा किया ! गाँव से निकालने के बाद महराजी पोखर था ! बाढ़ के पानी चारों ओर फैले थे ! महराजी पोखर के पास रास्ते में घुटने तक पानी था ! सब धोती पहने हुए थे ! सबों ने समेट लिया ! पर लोचना खबास ने मुझे अपने कंधे पर उठा लिया ! मगरपट्टी गाँव में मुझे लोचना खबास ने उतार दिया ! फिर देहट गाँव से गुजरे और बेल्हबाड़ पहुँचे ! लोगों ने वहाँ अपने- अपने पैर धोए, चाय पिया ,पान खाए और फिर शिबीपट्टी के लिए चल पड़े ! मेरे होने वाले बड़े साले श्याम बाबू हठधड़ी के लिए शिबीपट्टी आए थे ! वे पहले पहुँचकर हमलोगों के आने का संदेश उन्होंने दे दिया ! पहुँचने पर स्वागत हुआ ! और शादी हो गई ! दूसरे दिन बारात को खिलाने के बाद उन्हें धोती ,कुर्ता पाग और बिदाई में जनऊ सुपड़ी और द्रव्य दिये गए और विदा किया गया ! मैं चार दिन ससुराल में विधि -विधान के लिए रुका रहा और फिर दुमका होते हुए लखनऊ पहुँच गया !

==============

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”

साउंड हेल्थ क्लिनिक

डॉक्टर’स लेन

दुमका

झारखंड

26.11.2023

Language: Hindi
125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आज़ादी का जश्न
आज़ादी का जश्न
Shekhar Chandra Mitra
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
💐प्रेम कौतुक-536💐
💐प्रेम कौतुक-536💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
*Author प्रणय प्रभात*
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
"अहङ्कारी स एव भवति यः सङ्घर्षं विना हि सर्वं लभते।
Mukul Koushik
अक्सर सच्ची महोब्बत,
अक्सर सच्ची महोब्बत,
शेखर सिंह
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
दुष्यन्त 'बाबा'
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
Loading...