Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

अनूठी दुनिया

यह दुनिया बड़ी अनूठी
इसमें ना कोई है दुराय
निकृष्ट बनने पर तुले
हमने इस विचित्र सी
धरती पर जन्म लिया
यह सौभाग्य की बात
जन्म तो कोई भी लेता
पर हम में और उन में
है बहुत ही अंतर यहां
कुछ अच्छा ही करें…
ताकि याद करेगी भव।

इस कलित सी भुवन में
कोई न हो पाया अपना
दिखावे के लिए तो
सब कहते हैं मैं तो मैं
आपका अपना ही हूं
पर न होता अपना
सबमें छिपी होती
स्वार्थ की भावना
हमसबों को देश में ही
नहीं, अनूठी सी दुनिया में
अपना परचम फहरा कर
इस मिट्टी में मिल जाना है।

Language: Hindi
1 Like · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
gurudeenverma198
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
"घूंघट नारी की आजादी पर वह पहरा है जिसमे पुरुष खुद को सहज मह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
Sonam Puneet Dubey
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
"चुम्बकीय शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
ग़ज़ल __
ग़ज़ल __ "है हकीकत देखने में , वो बहुत नादान है,"
Neelofar Khan
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
आया बाढ़ पहाड़ पे🙏
आया बाढ़ पहाड़ पे🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" रागी "जी
राधेश्याम " रागी "
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
*जीवन की शाम (चार दोहे)*
Ravi Prakash
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
2596.पूर्णिका
2596.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
हाइकु-गर्मी
हाइकु-गर्मी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
सेवा में,,,
सेवा में,,,
*प्रणय प्रभात*
Loading...